Skip to main content

How to Increase typing speed in Hindi

 

How to Increase typing speed in Hindi

 हिन्‍दी में typing speed को कैसे बढ़ाये 

 how to Increase typing speed in Hindi ( कैसे आप हिन्‍दी में टाईपिंग स्‍पीड बढ़ा सकते है।) अगर आप को English या Hindi टाईपिंग आता है तो, ह‍ि आप अपनी Typing Speed बढ़ा सकते है। क्‍योकि आगर आप को कुछ भी टाईप करना चाहेगे, तो आप keyboard के key या बटन का ज्ञान होना चाहिए। तब हि आप type कर सकते है। तब भी अपना  speed बढ़ा सकते हैं।



        तो अब हमलोग keyboard के बारे में जान लेते है। जिसका उपयोग करके अपना typing speed को बढ़ा सकते है।

Keyboard उपयोग करने का सुझाव या तरीका :-

1.   जब हाथ Keyboard पर रखें तो हाथ को सिधा रखें ।

2.   कलाई को Keyboard से जितना संभव हो उतना ऊपर रखें ।

3.   हर समय यह प्रयास करे कि टाईप करते समय सीधा बैठे ।

4.   अपनी कलाई को बाहर या अन्‍दर न ले ।

5.   पोइन्‍टर को जितना संभव हो अपने पास रखें ।

6.   समान्‍य कार्य निपटाने के लिए Shortcut Key को उपयोग करें ।

7.   Bottom को दवाने के लिए न्‍यूतम दाव का उपयोग करें ।

8.   टाईप करते समय दस अंगूलियाका उपयोग करें 

9. अपनी कुर्सी की ऊँचाई को व्‍यवस्‍ती करे, ताकि आराम दायक स्तिथि में बैठने के लिए ।

10. टाईप करते समय खासकर speed से ज्‍यादा accuracy पर घ्‍यान दे।

 

खासकर हमलोग कुछ ऐसे बात को भूल जाते है, जोकि हमारे लिए काफी मददगार साबित हो सकता है। इसलिए आप ऊपर बताऐ गये बात को ध्‍यान में रखकर टाईप करे ।


हिन्‍दी टाईपिंग मे सही में अपनी टाईपिंग स्पिडि को बढ़ाना चाहते है तो अपने Keyboard layout को समझने का प्रयास करें। ताकि आप आसानी से उस पर टाईप कर सकें ।  जब हिन्‍दी में टाईपिंग की बात आती है, तो बहुत सारे लोग को पसीना छुटने लगता है। क्‍योकि सारे अक्षर की-बोड पर नही आते है। जिसके कारण याद रखना उनके लिए काफी कठिन होता है। हिन्‍दी के कुछ ऐसे शब्‍दा है, जोकि Alt + Numeric key के साथ बनता है।

 

speed बढ़ाने के लिए आप को अपने Keyboard का चयन ध्‍यान से करें।

·       Hard press ऐसे keyboard होते है, कि जिसका बटन काफी मजबूत और कठोर होते है। hard press keyboard को Standared भी कहा जाता है। Standared की-बोड पर टाईपिंग करने पर आप सबसे पहले काफी दिक्‍कत होगा, आगर आप इस प्रकार के की-बोड पर टाईपिंग करते है, तो आपकी typing speed बढ़ सकता है।


·       Hard press या Standred की-बोड का उपयोग खास करके बैंक, कम्‍पनी या दफ्तर  में काफी उपयोग होता है। यह कि-बोड मंगहा होता है। इस प्रकार के keyboard का कीमत लगभग 1000 से लेकर 2000 तक होता है।

  

·        Spaced Press ऐसे keyboard होते है, कि जिसका बटन काफी मूलायम या नरम होता है। इस की-बोड पर एक key से दूसरे key पर जाने में कम समय लगता है। यह कि-बोड Hard pres के आकार में छोटा होता है। यह की-बोड खास कर wifi से connect हो कर चलता है। इस प्रकार के keyboard का कीमत लगभग 500 से लेकर 800 तक होता है।


·       Easy Press ऐसा keyboard होत है, जिसका बटन थोड़ा उभरा होते है। इस की-बोड पर एक key से दूसरे key पर जाने में बहुत कम समय लगता है। इस की-बोड को दबाने में काफी कम समय लगता है। इसलिए Easy Press की-बोड कहा जाता है। इस प्रकार के keyboard का कीमत लगभग 250 से लेकर 500 तक होता है।


Typing Speed Increase करने के लिए आप का Hand positions Free-style typing या Test typing  में होना चाहिए ताकि अपना Speed बढ़ा सकते है।  

सबसे पहले आप यह पता लगाना होगा कि आप Typing किस तरह से करते है

 

·       2 fingers typing

·       Free-style typing

·       Test typing

 

 Hand positions आपके Typing speed  बढ़ाने में काफी अहम  भूमिका निभाता है। अगार आप 2 finger typing खसकर धीरे- धीरे आप Free-style typing करना चाहिए ताकि आप की Speed बढ सके ।  

 

अगर आप टाईपिंग कर लेते है लेकिन आप का Speed नही आ रहा है, तो आप जो Timeline दिया है उसे जरूर Follow करे। इस Timeline को Follow करके मैने अपना टाईपिंग  30 से 50 WPM तक किया है। इसका उपयोग आप भी कर सकते है।

 

Timeline

Months v/s

Level

Beginner

Intermediate

Advanced

1st Month

 

15-20 WPM

30 WPM

35+ WPM

2nd- 3rd Month

 

From Change

30 WPM

Accuracy 35

WPM

50+WPM No

from change

3rd Month onwards

 

35-40 WPM and

beyond

45 WPM and

beyond

50+WPM and

beyond

 

इस Timeline का Follow करते समय खासकर इन बातों का ध्‍यान रखें । ताकि अपनी स्‍पीड बढ़ा सके ।

Ø आप प्रतिदिन typing करे कम से कम 2 धंटा रोजाना करें।

Ø अपना Time table fix कर ले टाईपिंग के लिए ।

Ø टाईपिंग करते समय accuracy पर ध्‍यान दें।

Ø टाईपिंग करते समय  keyboard को न देखे।

Ø टाईपिंग करते समय जितना हो सके कम से कम backspace का उपयोग करें।

Ø ध्‍यान से की-बोड का Layout को समझे ।

Ø online Typing test देते रहें ।

तो दोस्‍तो अगर आप को टाईपिंग स्‍पीड से कोई भी सवाल या सुझाव अपके मन में है। तो comment करना ना भूले। यह पोस्‍ट आप को पसंद आता है। एक दूसरे के साथ जरूर शेयर करें।

 

 

 

Comments

Popular posts from this blog

What is computer In hindi (कम्‍प्‍यूटर क्‍या है?)

कम्प्यूटर का परिचय :         प्राचीन समय से मानव अपने कतनीकी या ऐसे तरीके को विकास के लिए कुछ ऐसे संसाधनो:- जैसे – द्रव्य तथा सूचना आदि के बारें में जानकारी हासिल करने में लगा है ,   जो उनके दूनिया को नया आकार दे सके। सूचना एक ऐसा संसाधान है , जिसके निरन्तर विकास के लिए मानव वर्षों से प्रयत्नशील रहा है।         अत:   मानव ने सूचना को अपने वश में करने के लिए एक ऐसा मशीन ' कम्प्यूटर ' (Computer) का आविष्कार किया है , जो चाहे पूरा दुनिया के संदेशों/सूचनाओं को अपनी मठ्टी में कर सकता है। आज हम जिस आधुनिक कम्प्यूटर को देखते है , वह लगभग 53 वर्ष पूर्व आविष्कार हुआ था। लेकिन कम्प्यूटर का इतिहास उससे कहीं अधिक प्राचीन है। सभ्यता के प्रारंभ से ही व्यापारियों और सरकारी संस्थाओं ने ऑंकड़ संग्रहण और गणनॉंए करने के लिए गणना-यंत्रों का उपयोग किया है। 3 हजार वर्ष पूर्व चीन में आविष्कृत अबेकस (Abacus) इस प्रकार के गणना-यंत्र का एक उदाहरण है।             अब हम आधुनिक कम्प्यूटर के जन्मदाता या जनक के बारे जानगें । जब भी कम्प्यूटर के जनक या पिता के बारे क्या आप पता है , अगर आप

How many types of Computer in Hindi

कम्यूटर क्या है ? ( What is Computer ?)   कम्‍प्‍यूटर एक ऐसी इलेक्‍ट्रॉनिक डिवाइस है , जो इनपुट को प्राप्‍त करने , उसे प्रोसेस करके सूचना प्रदान करने के लिए निर्देशों का पालन करता है। कम्‍प्‍यूटर के प्रकार के बारे में अधिक जाने गये।           कम्‍प्‍यूटर के बाँटने का आधार तकनीकी तथा सैद्धान्तिक रूप में कम्‍प्‍यूटर को   मुख्‍यत: दो प्रकार से बॉंटा गया है :           1.  आकार के आाधार पर और         2.  कार्य करने या उपयोग के आधार पर   1 आकार के आाधार पर कम्‍प्‍यूटर में सहायक यंत्र , परिपथ तथा पुर्जे को आवश्‍यकतानुसार बढ़ाया जा सकते हैं , जिसके कारण कम्‍प्‍यूटर के आकार में काफी बड़ा हो सकता है।   अत: आकार के आधार पर कम्‍प्‍यूटर को मुख्‍यत: पॉंच प्रकार होते है             क्‍या आप के मन यह सवाल है कि , कम्‍प्‍यूटर के पॉंच प्रकार होते है? अब , आप ध्‍यान से पढे़ क्‍यो कि जो बताने वाला हुँ।  वह शायद ही आप को पता हो सकता है। i.      माइक्रो-कम्‍प्‍यूटर ( Micro-computer) या पर्सनल कम्‍प्‍यूटर ( PC)   ii.    मिनी कम्‍प्‍यूटर   ( Mini- Computer) iii.   सुपर मिनी कम्‍प्‍यू