Skip to main content

How many types of Computer in Hindi

कम्यूटर क्या है ? (What is Computer?)

 कम्‍प्‍यूटर एक ऐसी इलेक्‍ट्रॉनिक डिवाइस है, जो इनपुट को प्राप्‍त करने, उसे प्रोसेस करके सूचना प्रदान करने के लिए निर्देशों का पालन करता है। कम्‍प्‍यूटर के प्रकार के बारे में अधिक जाने गये।

        कम्‍प्‍यूटर के बाँटने का आधार तकनीकी तथा सैद्धान्तिक रूप में कम्‍प्‍यूटर को  मुख्‍यत: दो प्रकार से बॉंटा गया है :

        1.  आकार के आाधार पर और

        2.  कार्य करने या उपयोग के आधार पर

 

1 आकार के आाधार पर

कम्‍प्‍यूटर में सहायक यंत्र, परिपथ तथा पुर्जे को आवश्‍यकतानुसार बढ़ाया जा सकते हैं, जिसके कारण कम्‍प्‍यूटर के आकार में काफी बड़ा हो सकता है।

 अत: आकार के आधार पर कम्‍प्‍यूटर को मुख्‍यत: पॉंच प्रकार होते है

         क्‍या आप के मन यह सवाल है कि, कम्‍प्‍यूटर के पॉंच प्रकार होते है? अब, आप ध्‍यान से पढे़ क्‍यो कि जो बताने वाला हुँ।  वह शायद ही आप को पता हो सकता है।

i.     माइक्रो-कम्‍प्‍यूटर (Micro-computer) या पर्सनल कम्‍प्‍यूटर (PC) 

ii.   मिनी कम्‍प्‍यूटर  (Mini- Computer)

iii.  सुपर मिनी कम्‍प्‍यूटर या मिडरेंज (Super Mini Computer)

iv.  मेन फ्रेम  कम्‍प्‍यूटर (Main Frame Computer)

v.   सुपर कम्‍प्‍यूटर (Super Computer)  

 

माइक्रो- कम्‍प्‍यूटर (Micro-computer) या पर्सनल कम्‍प्‍यूटर (PC)

इस कम्‍प्‍यूटर का विकास 1970 से प्रारंभ हुआ जब, सीपीयू ( CPU- Central Processing Unit ) में माइक्रो- प्रोसेसर (Processor) का उपयोग किया जाने लगा। इसका विकास सबसे पहले आई बी एम ( IBM ) कम्‍पनी ने किया। इसमें 8, 16, 32 या 64 बिट (Bit)  माइक्रो- प्रोसेसर का प्रयोग किया जाता है।

        यह टेलीविजन के आकार का होता है। इसकी क्षमात एक लाख अनुदेश प्रति सेकेंड (100 के आई पी एस) के बराबर होती है। माइक्रो-कम्‍प्‍यूटर चार प्रकार के होते हैं-

        गृह-कम्‍प्‍यूटर (HomeComputer), व्‍यक्तिगत (Personal) कम्‍प्‍यूटर, मोड़ शीर्ष या नोट बुक या लैपटॉप (laptop) तथा शब्‍द- प्रक्रमक ( Word-Processor) कम्‍प्‍यूटर।

 व्‍यक्तिगत तथा लैपटॉप कम्‍प्‍यूटर

       (Personal and Laptop Computer)       

व्‍यक्तिगत कम्‍प्‍यूटर (Personal Computer) को डेस्‍क टॉप (Desk Top) कम्‍प्‍यूटर भी कहा जाता है। इस प्रकार के कम्‍प्‍यूटर का उपयोग व्‍यक्तिगत कार्यों, लेखा रखनेऑंकड़े  संरक्षित करने, प्रकाशन आदि में किया जाता है।

 प्रारंभ में इस कम्‍प्‍यूटर में 8088 नामक माइक्रो- प्रोसेसर (Micro-processor) का प्रयोग किया जाता था, लेकिन वर्तमान में इसके Pentium-4 प्रोसेसर का प्रयोग किया जाने लगा है।                                                                                                              लैपटॉप ( Laptop) कम्‍प्‍यूटर को नोटबुक ( Note-book) कम्‍प्‍यूटर भी कहा जाता है। यह आकार में छोटा तथा हल्‍का होता है। यह व्‍यक्तिगत से सिद्धान्‍त पर कार्य करता है। इसमें एक चौड़ा पर्दा , द्रव- क्रिस्‍टल डिस्‍पले ( Liquid Crystal Display ) तथा एक की-बोर्ड ( Keyboard) का उपयोग किया जाता है।

         उपयोग (Use) – घर, ऑफिस, विद्यालय, चिकित्‍सा, मनोरंजन, व्‍यापार, उत्‍पादन, रक्ष आदि अनेक क्षेत्रों में इसका उपयोग अभी के समय में काफी अधकि हो रहा है।

                         मिनी कम्‍प्‍यूटर  (Mini- Computer)

यह माइक्रो – कम्‍प्‍यूटर से बड़ा होता है। छोटा आकार होने की वजह से इसे मिनी कम्‍प्‍यूटर भी कहा जाता है। यह माइक्रो – कम्‍प्‍यूटर से लगभग 5 से 50 गुण अधिक शीघ्रता से कार्य कारता है इसके द्वारा 5 लाख से 50 लाख अनुदेश प्रति सेकेंड प्रतिपादित किए जा सकते हैं जिसके कारण इसकी संग्रहण क्षमता और गति अधिक होता है।

 यह माइक्रो- कम्‍प्‍यूटर का आविष्‍कार 1965 में डीइसी ( DEC- Digital Equipment Corporation) नामक कम्‍पनी ने किया ।

        उपयोग ( Uses) -  बड़े ऑफिस, अनुसंधान, कम्‍पनी, यात्री-आरक्षण आदि कार्यों में इसका उपयोग होता है।

                                     सुपर मिनी कम्‍प्‍यूटर या मिडरेंज

सुपर मिनी कम्‍प्‍यूटर या मिडरेंज ऐसा मिनी कम्‍प्‍यूटर, जिनमें मेनफ्रेम कम्‍प्‍यूटर के बराबर प्रोसेसिंग पावर (Processing power) हो, सुपर मिनी कम्‍प्‍यूटर कहलाते है।

पामटॉप  (Palmtop) तथा वर्क स्‍टेशन (Work Station)

 पामटॉप  (Palmtop) बहुत ही छोटा कम्‍प्‍यूटर है, जिसे हाथ में रखकर कार्य किया जा सकता है। यह मोबाइल फोन के समान होते है। इसे मिनी लैपटॉप (Mini Laptop) भी कहा जा सकता है। क‍ी-बोर्ड (Keyboard) की जगह इसमें आवाज द्वारा इनपुट का कार्य किया जाता है। पीडीए (PDA – Personal Digital Assistant) भी एक छोटा कम्‍प्‍यूटर है, जिसे नेटवर्क से जोड़कर अनेक कार्य किया जाता है।

        लेकिन वर्क स्‍टेशन (Work Station) एक शक्तिशाली पीसी (PC) है, जो अधिक प्रोसेसिंग पावर विशाल भंडारण और डिस्‍प्‍ले (Display) को ध्‍यान में रखकर बनाया गया है। इस पर एक बार में एक ही व्‍यक्ति काम कर सकता है।

     मेन फ्रेम  कम्‍प्‍यूटर (Main Frame Computer)

मेनफ्रेम कम्‍प्‍यूटर के लिए खास कर वातानुकूलित कमरों की आवश्‍यकता होती है। यह सुपर कम्‍प्‍यूटर जितने शक्तिशाली नही होते है, फिर भी मेनफ्रेम कम्‍प्‍यूटर डाटा को अति तीव्र से स्‍टोरेज के लिए सक्षम होते है। उदाहरण के लिए, बीमा कंपनिया लाखों पॉलिसीधारक लोग के बारे में जानकारी संग्रह करने के लिए मेनफ्रेम कम्‍प्‍यूटर का उपयोग करते है।

उपयोग (User) – बैंक, रक्षा

सुपर कम्‍प्‍यूटर ( Super Computer ) 

ऐसा कम्‍प्‍यूटर जो क‍ि सभी प्रकार के कम्‍प्‍यूटर से अधिक शक्तिशाली कम्‍प्‍यूटर का होते हैैै। जो क‍ि मौसम का जानकारी के बारे में उपयोग किया जाता है ।



 

Comments

Popular posts from this blog

What is computer In hindi (कम्‍प्‍यूटर क्‍या है?)

कम्प्यूटर का परिचय :         प्राचीन समय से मानव अपने कतनीकी या ऐसे तरीके को विकास के लिए कुछ ऐसे संसाधनो:- जैसे – द्रव्य तथा सूचना आदि के बारें में जानकारी हासिल करने में लगा है ,   जो उनके दूनिया को नया आकार दे सके। सूचना एक ऐसा संसाधान है , जिसके निरन्तर विकास के लिए मानव वर्षों से प्रयत्नशील रहा है।         अत:   मानव ने सूचना को अपने वश में करने के लिए एक ऐसा मशीन ' कम्प्यूटर ' (Computer) का आविष्कार किया है , जो चाहे पूरा दुनिया के संदेशों/सूचनाओं को अपनी मठ्टी में कर सकता है। आज हम जिस आधुनिक कम्प्यूटर को देखते है , वह लगभग 53 वर्ष पूर्व आविष्कार हुआ था। लेकिन कम्प्यूटर का इतिहास उससे कहीं अधिक प्राचीन है। सभ्यता के प्रारंभ से ही व्यापारियों और सरकारी संस्थाओं ने ऑंकड़ संग्रहण और गणनॉंए करने के लिए गणना-यंत्रों का उपयोग किया है। 3 हजार वर्ष पूर्व चीन में आविष्कृत अबेकस (Abacus) इस प्रकार के गणना-यंत्र का एक उदाहरण है।             अब हम आधुनिक कम्प्यूटर के जन्मदाता या जनक के बारे जानगें । जब भी कम्प्यूटर के जनक या पिता के बारे क्या आप पता है , अगर आप

How to Increase typing speed in Hindi

  How to Increase typing speed in Hindi   हिन्‍दी में typing speed को कैसे बढ़ाये    how to Increase typing speed in Hindi ( कैसे आप हिन्‍दी में टाईपिंग स्‍पीड बढ़ा सकते है।) अगर आप को English या Hindi टाईपिंग आता है तो , ह‍ि आप अपनी Typing Speed बढ़ा सकते है। क्‍योकि आगर आप को कुछ भी टाईप करना चाहेगे , तो आप keyboard के key या बटन का ज्ञान होना चाहिए। तब हि आप type कर सकते है। तब भी अपना  speed बढ़ा सकते हैं।         तो अब हमलोग keyboard के बारे में जान लेते है। जिसका उपयोग करके अपना typing speed को बढ़ा सकते है। Keyboard उपयोग करने का सुझाव या तरीका :- 1.    जब हाथ Keyboard पर रखें तो हाथ को सिधा रखें । 2.    कलाई को Keyboard से जितना संभव हो उतना ऊपर रखें । 3.    हर समय यह प्रयास करे कि टाईप करते समय सीधा बैठे । 4.    अपनी कलाई को बाहर या अन्‍दर न ले । 5.    पोइन्‍टर को जितना संभव हो अपने पास रखें । 6.    समान्‍य कार्य निपटाने के लिए Shortcut Key को उपयोग करें । 7.    Bottom को दवाने के लिए न्‍यूतम दाव का उपयोग करें । 8.    टाईप करते समय दस अंगूलियाका उपयोग क