Skip to main content

What is computer In hindi (कम्‍प्‍यूटर क्‍या है?)

कम्प्यूटर का परिचय :

        प्राचीन समय से मानव अपने कतनीकी या ऐसे तरीके को विकास के लिए कुछ ऐसे संसाधनो:- जैसे – द्रव्य तथा सूचना आदि के बारें में जानकारी हासिल करने में लगा है,  
जो उनके दूनिया को नया आकार दे सके। सूचना एक ऐसा संसाधान है, जिसके निरन्तर विकास के लिए मानव वर्षों से प्रयत्नशील रहा है।

        अत:  मानव ने सूचना को अपने वश में करने के लिए एक ऐसा मशीन 'कम्प्यूटर' (Computer) का आविष्कार किया है, जो चाहे पूरा दुनिया के संदेशों/सूचनाओं को अपनी मठ्टी में कर सकता है।

आज हम जिस आधुनिक कम्प्यूटर को देखते है, वह लगभग 53 वर्ष पूर्व आविष्कार हुआ था। लेकिन कम्प्यूटर का इतिहास उससे कहीं अधिक प्राचीन है।

सभ्यता के प्रारंभ से ही व्यापारियों और सरकारी संस्थाओं ने ऑंकड़ संग्रहण और गणनॉंए करने के लिए गणना-यंत्रों का उपयोग किया है। 3 हजार वर्ष पूर्व चीन में आविष्कृत अबेकस (Abacus) इस प्रकार के गणना-यंत्र का एक उदाहरण है।
computer kya hai

           अब हम आधुनिक कम्प्यूटर के जन्मदाता या जनक के बारे जानगें । जब भी कम्प्यूटर के जनक या पिता के बारे क्या आप पता है, अगर आप जबाब हॉं है, तो बहुत ही अच्छी बात है। लेकिन नही तो आगें पढ़े।

आधुनिक कम्प्यूटर  के पिता या जन्मदाता (जनक) कौन है?
अगर आप को आधुनिक कम्प्यूटर का पिता नाम पता है, तो आप हमें Comment में बता सकते है।

दोस्तों बहुत ऐसे लोग है जो कि कम्प्यूटर चलाना जानेते हैं, लेकिन कम्प्यूटर के पिता के बारे में अधिक जानकारी नही होते  है।
       
आधुनिक कम्प्यूटर के पिता का नाम चार्ल्स बैबेज (Charles Babbage) को कहा जाता है।

        चार्ल्स बैबेज एक ब्रिटिश गणतिज्ञ थे। उन्होंने एक यांत्रिक गणना मशीन विकसित करने की आवश्यकता तब महसूस की जब गणना के लिए बनी हुई सारणियों में त्रुटि आती थी।

 चूँकि ये सारणियॉं (Tables) हस्त- निर्मित (Hand Set) थीं, इसिलए उनमें त्रुटि आने की संभावना रहती थी। कम्प्यूटर के इतिहास में 19वीं शतब्दी का प्रारंभिक समय स्वर्णिम युग माना जाता है।
computer in hindi


 चार्ल्स बैबेज ने सन् 1822 में दशमलव के बीस स्थानों तक गणना करने के लिए एक मशीन विकसित की, जिसका व्यय ब्रिटिश सरकार ने किया। इस मशीन का नाम 'डिफरेन्स इंजन (Difference engine)' रखा गया।
बाद में इसी का विकसित रूप एनालिटिकल इंजन (Analytical engine) सन् 1833 में तैयार किया गया

        चार्ल्स बैबेज का एनालिटिकल इंजन (Analytical engine) आधुनिक कम्प्यूटर का आधार बना और यही कारण है कि चार्ल्स बैबेज (Charles Babbage) को आधुनिक कम्प्यूटर का जन्मदाता (Father of Modern Computer) कहा जाता है।

 उन्होंने अपना सर्वस्व एनालिटिकल इंजन (Anyalatical engine) के विकास में लगाया, लेकिन वे इस मशीन के क्रियाशील मॉडल (Working Model) को भी नहीं देख पाए। अत: चार्ल्‍स बैबेज का कम्प्यूटर के विकास में बहुत बड़ा योगदान रहा।

        आज शायद ही कोई ऐसा पढ़ा-लिखा व्यक्ति होगा, जिसने कम्प्यूटर का नाम नहीं सुना होगा। अधिकतर लोग कम्प्यूटर को एक मशीन मानते है, जो सब  कुछ कर सकता है।

 हालॉंकि यह कहना उचित नहीं होगा कि कम्प्यूटर सब कुछ कर सकता है, लेकिन इसमें संदेश नहीं कि वह बहुत कुछ कर सकता है और वह भी बहुत तेजी से तथा सही-सही यही कारण है कि दुनिया में कम्प्यूटरों की संख्या बढ़ती जा रही है।

अब हम यहॉं चर्चा करेंगे कि कम्प्यूटर क्या है? उसकी आवश्यकता क्यों है? यह क्या- क्या कार्य कर सकता है और इसके द्वारा कार्य किस प्रकार कराए जाते हैं।

कम्यूटर क्या है ? (What is Computer?)

कम्प्यूटर (Computer) एक इलेक्ट्रॉनिक मशीन है, जैसे कि इलेक्ट्रॉनिक कैलकुलेटर होते हैं। कैलकुलेटरों पर हम जोड़ना, घटाना आदि अंकगणितीय काम करते है,

जबकि कम्प्यूटर पर हम इन क्रियाओं के अलावा भी बहुत –से काम करते या कराते हैं- इन कामों को डाटा प्रोसेसिंग (Data Processing) कहते हैं।  
computer meaning in hindi
        
                            
        अत: कम्‍प्‍यूटर एक इलेक्‍ट्रॉनकि (Electronic) मशीन है, जो डाटा तथा निर्देशों को इनपुट के रूप में ग्रहण करता है, उनका व‍िश्‍लेषण करता है तथा आवश्‍यक परणिामों को नश्चित प्रारूप में आउटपुट के रूप में नि‍र्गत करता है।

 यह डाटा का भंडारण (Storage) तथा तीव्र गत‍ि और त्रुट‍िरह‍ित ढंग से उसके विश्‍लेषण का कार्य करता है।

कम्‍प्‍यूटर के बारे में जाना गये, तो कम्‍प्‍यूटर का परिभाषा क्‍या हैं?
       

ऑक्‍सफोर्ड डि‍क्‍शनरी  के अनुसार :

       
परि‍भाषा (Definition)- ' कम्‍प्‍यूटर एक स्‍वचालित इलेक्‍ट्रॉनिक मशीन है, जिसका अनेक प्रकार की तर्कपूर्ण गणनाओं के लिए प्रयोग किया जाता है।'
कम्‍प्‍यूटर वह मशीन है, जो डाटा स्‍वीकार करता है, उसे भंडारित करता है और दिए गए नि‍र्देशों के अनुरूप उनका विश्‍लेषण करता है तथा विश्‍लेषित परिणामों को आवश्‍यकतानुसार निर्गत करता है।                                                    


        कम्प्यूटर क्यों जरूरी है? इसका उपयोग कहॉं-कहॉं होते है।


मनुष्‍य के जीवन में कम्‍प्‍यूटर एक महत्‍वपूर्ण भूमिका निभाता है। कम्‍प्‍यूटर के उपयोग करने का प्रमुख कारण यही है कि इसके द्वारा हम अपने जीवन को और अधिक सरल बना सकते हैं।

 परिवार के सदस्‍यों को एक- दुसरे के पास लाकर तथा परिवार को एक सूत्र में बॉंधकर पारिवारिक जीवन को आनंदमय बनाने में भी कम्‍प्‍यूटर महत्‍वपूर्ण भूमिका निभाता है।

 परिवार के लोग एकसाथ मिलकर बजट बना सकते हैं, फिल्‍म देख सकते हैं, व‍ीडियों गेम्‍स खेल सकते हैं, अथवा कोई नया कार्य : जैसे – कोई डिजाइन बनाना, लेख लिखना, कार्टून बनाना इत्‍यादि भी कर सकते हैं।

 गृहिणियाँ कम्‍प्‍यूटर पर किया जाने वाला कोई भी Online काम, जो आजकल आसनी से उपलब्‍ध है, करके अपनी आय का साधन जुटा सकती हैं तथा समय की बचत कर सकती है।

        अब हमलोग जान गये है, कि कम्‍प्‍यूटर क्‍यों जरूरी है। इसका उपयोग किस प्रकार करते है, जाने गये कि कम्‍प्‍यूटर की उत्‍पति  किस प्रकार हुआ है। कम्‍प्‍यूटर का शाब्दिक अर्थ किया होते है।

        कम्‍प्‍यूटर की उत्‍पति' कम्‍प्‍यूटर ( Computer)' शब्‍द की उत्‍पति अंग्रेजी के शब्‍द 'कम्‍प्‍यूट (Compute)' से हुई है, जिसका अर्थ है- गणना करना।
कम्‍प्‍यूटर को हिन्‍दी में 'अभिकलित्र' अथावा 'संगणक' भी कहते हैं।

 प्रारंभ में कम्‍प्‍यूटर का उपयोग मुख्‍य रूप से गणनात्‍मक कार्यों के लिए ही हुआ, लेकिन आज इसका कार्य- क्षेत्र काफी विस्‍तृत और व्‍यापक हो चुका है।

 इस आधार पर हम कम्‍प्‍युटर को सिर्फ गणक कहने के बदले इन्‍फॉर्मेशन (Information) या सूचना के आधार पर संगणना (Processing) करनेवाला उपकरण भी कहते हैं।

        अत: कम्‍प्‍यूटर एक इलेक्‍ट्र्रॉनिक उपकरण है, जिसमें प्रत्‍यक्षत : हाथों से काम किए बिना ही जटिल-से- जटिल सुचनाओं को संसाधित करके पलक झपकेत ही हल निकाल लेने की क्षमता मौजूद होती है।

 सामन्‍यत: घरों एवं दफ्तरों में प्रयोग किए जाने वाले कम्‍प्‍यूटर को पी सी P C (Personal Computer) कहा जाता है।

कम्‍प्‍यूटर का शाब्दिक अर्थ

कम्‍प्‍यूटर (Computer) वस्‍तुत : English के आठ अक्षरों के साथ मिलकर बना है, जो इसके अर्थ को अति व्‍यापक बना देते हैं। जैसे कि-
        C   = Calculations ( गणना )
        O   = Operative  ( क्रियाशील )
        M  = Machanics ( यांत्रिकी )
        P   =  Processing ( प्रक्रिया )
        U   =  Useful   ( उपयोगी )
        T   =  Thesaurus  ( शब्‍दकोष )
        E   =  Extensive  ( विस्‍तृत )
        R   =  Research  ( अनुसंधान, शोध )

अत: कम्‍प्‍यूटर का शाब्दिक अर्थ में कम्‍प्‍यूटर एक ऐसे व्‍यवहृत यंत्र है, जिसका
      उपयोग गणना, प्रक्रिया, यांत्रिकी, अनुसंधान, शोध आदि काम किया जाता है।
अगर अभी भी कोई सवाल या प्रश्‍न आप के मन मे है। तो आप comment कर सकते है। इस पोस्‍ट को अपने दोस्‍तों को श्‍येर करन न भूले ताकि आप भी अपने साथ अपने दोस्‍तों का मदद कर रहे हैं। 


         



Comments

Popular posts from this blog

How many types of Computer in Hindi

कम्यूटर क्या है ? ( What is Computer ?)   कम्‍प्‍यूटर एक ऐसी इलेक्‍ट्रॉनिक डिवाइस है , जो इनपुट को प्राप्‍त करने , उसे प्रोसेस करके सूचना प्रदान करने के लिए निर्देशों का पालन करता है। कम्‍प्‍यूटर के प्रकार के बारे में अधिक जाने गये।           कम्‍प्‍यूटर के बाँटने का आधार तकनीकी तथा सैद्धान्तिक रूप में कम्‍प्‍यूटर को   मुख्‍यत: दो प्रकार से बॉंटा गया है :           1.  आकार के आाधार पर और         2.  कार्य करने या उपयोग के आधार पर   1 आकार के आाधार पर कम्‍प्‍यूटर में सहायक यंत्र , परिपथ तथा पुर्जे को आवश्‍यकतानुसार बढ़ाया जा सकते हैं , जिसके कारण कम्‍प्‍यूटर के आकार में काफी बड़ा हो सकता है।   अत: आकार के आधार पर कम्‍प्‍यूटर को मुख्‍यत: पॉंच प्रकार होते है             क्‍या आप के मन यह सवाल है कि , कम्‍प्‍यूटर के पॉंच प्रकार होते है? अब , आप ध्‍यान से पढे़ क्‍यो कि जो बताने वाला हुँ।  वह शायद ही आप को पता हो सकता है। i.      माइक्रो-कम्‍प्‍यूटर ( Micro-computer) या पर्सनल कम्‍प्‍यूटर ( PC)   ii.    मिनी कम्‍प्‍यूटर   ( Mini- Computer) iii.   सुपर मिनी कम्‍प्‍यू

How to Increase typing speed in Hindi

  How to Increase typing speed in Hindi   हिन्‍दी में typing speed को कैसे बढ़ाये    how to Increase typing speed in Hindi ( कैसे आप हिन्‍दी में टाईपिंग स्‍पीड बढ़ा सकते है।) अगर आप को English या Hindi टाईपिंग आता है तो , ह‍ि आप अपनी Typing Speed बढ़ा सकते है। क्‍योकि आगर आप को कुछ भी टाईप करना चाहेगे , तो आप keyboard के key या बटन का ज्ञान होना चाहिए। तब हि आप type कर सकते है। तब भी अपना  speed बढ़ा सकते हैं।         तो अब हमलोग keyboard के बारे में जान लेते है। जिसका उपयोग करके अपना typing speed को बढ़ा सकते है। Keyboard उपयोग करने का सुझाव या तरीका :- 1.    जब हाथ Keyboard पर रखें तो हाथ को सिधा रखें । 2.    कलाई को Keyboard से जितना संभव हो उतना ऊपर रखें । 3.    हर समय यह प्रयास करे कि टाईप करते समय सीधा बैठे । 4.    अपनी कलाई को बाहर या अन्‍दर न ले । 5.    पोइन्‍टर को जितना संभव हो अपने पास रखें । 6.    समान्‍य कार्य निपटाने के लिए Shortcut Key को उपयोग करें । 7.    Bottom को दवाने के लिए न्‍यूतम दाव का उपयोग करें । 8.    टाईप करते समय दस अंगूलियाका उपयोग क